पृष्‍ठभूमि

भारत के नियन्‍त्रक-महालेखापरीक्षक ने भारत सरकार के समर्थन से 12 अगस्‍त, 2002 को एक अधिसूचना के माध्‍यम से सरकारी लेखांकन मानक सलाहकार बोर्ड (गसब) का गठन किया। गसब को स्‍थापित करने का निर्णय सार्वजनिक वित्‍त प्रबंधन मे उभरती नई प्राथमिकाताओं तथा अन्‍तर्राष्‍ट्रीय प्रवृतियो के साथ तालमेल बनाए रखने की पृष्‍ठभूमि में लिया गया। सार्वजनिक खर्च में नई प्राथमिकताएं सुशासन, राजकोषीय विवेक, दक्षता और पारदर्शिता पर ध्‍यान केन्‍द्रित करती है।

दुनियाभर में लेखांकन प्रणाली शासन से सिद्धांत आधारित मानकों और लेखांकन की नकदी से प्रोदभूत आधारित प्रणाली की और पारगमन के नियम के परिवर्तन की ओर गौर किया जा रहा है। गसब भारत में नोडल सलाहकार निकाय के रूप में भारतीय लेखांकन तथा वित्‍तीय रिपोर्टिंग के मानकों को तैयार करने तथा बेहतर बनाने में तथा जवाबदेही तंत्र को बढाने में इसी प्रकार की कार्रवाई कर रहा है।


बोर्ड का ढ़ांचा

बोर्ड को सरकार, वित्‍त मंत्रालय, डाक विभाग, राज्‍यों के वित्‍त सचिवों, आरबीआई में महत्‍वपूर्ण लेखांकन अध्‍यक्षों से अनुसंधान संगठनों के अध्‍यक्षो का उच्‍च स्‍तर का प्रतिनिधित्‍व प्राप्‍त है। बोर्ड के निम्‍नलिखित सदस्‍य है।

1. अध्‍यक्ष के रूप में उपनियंत्रक-महालेखापरीक्षक (सरकारी लेखे)
2. वित्‍त आयुक्‍त, रेलवे
3. सदस्‍य (वित्‍त) दूरसंचार आयोग, दूरसंचार विभाग
4. सचिव, डाक विभाग
5. रक्षा लेखा महानियंत्रक
6. लेखा महानियंत्रक
7. अपर/संयुक्‍त सचिव (बजट), वित्‍त मंत्रालय, भारत सरकार
8. भारतीय रिजर्व बैंक का उप गर्वनर या उनका नामिती
9-12. चक्रानुक्रम से चार राज्‍यों के प्रधान सचिव (वित्‍त)
13. महानिदेशक, राष्‍ट्रीय अनुप्रयोज्‍य आर्थिक अनुसंधान परिषद (एनएसीईआर) नई दिल्‍ली
14. अध्‍यक्ष, भारतीय सनदी लेखाकार संस्‍थान (आईसीएआई) या उनका नामिती
15. अध्‍यक्ष, भारतीय लागत एवं निर्माण लेखाकार संस्‍थान या उनका नामिती सदस्‍य
16. सदस्‍य सचिव के रूम में महानिदेशक,सरकारी लेखा


बोर्ड के दायित्‍व

1. जवाबदेही तंत्र बढाने के लिए सरकारी लेखांकन तथा वित्‍तीय रिपोर्टिग के मानको की तैयारी और सुधार करना।
2. मानकों का निरूपण और उन्‍हें प्रस्‍तावित करना जो कि उपयोगकर्ताओं की जरूरतों के आधार पर वित्‍तीय रिपोर्टों की उपयोगिता में सुधार करे।
3. सरकारी मानकों को अद्यतित रखना तथा परिवेश में आए परिवर्तनों को दर्शाना
4. मानकों के कार्यान्‍वयन पर दिशानिर्देश प्रदान करना
5. लेखांकन एवं वित्‍तीय रिपोर्टो के महत्‍वपूर्ण क्षेत्रों पर विचार करना जिन्‍हें मानक बनाने की प्रक्रिया के माध्‍यम से सुधारा जा सकता है।
6. वित्‍तीय रिपोर्टों में निहित जानकारी की प्रकृति और उद्देश्‍यों के लिए सामान्‍य समझ में सुधार करना